कनक आंटी (हिंदी हॉरर स्टोरी) Free to Read

पिछले हफ़्ते ऑफ़िस की सीढ़ियों से पैर फिसलने से मेरी टांग टूट गयी। दर्द काफ़ी है, लेकिन टूटी हड्डी का नहीं, बल्कि घर से काम करने का। एक तो रह रहकर उठता दर्द, ऊपर से अम्मी को यही लगता है कि मैं छुट्टी लेकर आयी हूँ। 

पर इन दिनों मेरा सबसे पसंदीदा काम होता है अपने कमरे की बाल्कनी में आराम से बैठ कर काम करना। मेरे कमरे से हमारे मोहल्ले का पार्क दिखता है, जिसमें बच्चे बूढ़े और जवान, सभी कैटेगरी के लोग आते हैं। इन्हीं लोगों में सबसे मज़ेदार मुझे एक कपल लगता है।

  • Words

    3.1K

  • Time

    13 mins

Sign-in required

कनक आंटी (हिंदी हॉरर स्टोरी) Free to Read

स्वप्निल नरेंद्र

नमस्ते, मैं हिंदी में हॉरर कहानियाँ लिखता हूँ। मेरी कोई भी कहानी ख़रीदने से पहले आप मेरी वेबसाइट www.aavirbhaav.com पर जाकर उसका निशुल्क प्रिव्यू पढ़ सकते हैं। वेबसाइट पर आप और भी कई कहानियाँ पढ़ सकते हैं जो ScrollStack पर नहीं हैं, वो भी बिना किसी शुल्क के। साथ ही आप मुझसे instagram पर जुड़ सकते हैं, जहां आप बता सकते हैं कि मेरी कहानियाँ आपको कैसी लगीं? (लिंक प्रोफ़ाइल में है) और हाँ, Instagram पर हर गुरुवार की रात को मैं FRIDAY MIDNIGHT HORROR नाम से एक LIVE करता हूँ, जिसमें हम लोग भूत प्रेतों की बातें और क़िस्से साझा करते हैं। उम्मीद है आपसे मुलाक़ात होगी।