खपड़िया बाबा (हिंदी हॉरर स्टोरी)

चेतावनी: इस कहानी के कुछ अंश विचलित कर सकते हैं। सोच समझकर पढ़ें। 

खपड़िया बाबा ने एक आख़िरी मंत्र पढ़ा और उस खून मिले पानी से उस साधु के कटे सर पर एक तिलक लगाया। और फिर, मामा जी ने असम्भव को सम्भव होते देखा।

  • Words

    2.1K

  • Time

    13 mins

Sign-in required

खपड़िया बाबा (हिंदी हॉरर स्टोरी)

स्वप्निल नरेंद्र

नमस्ते, मैं हिंदी में हॉरर कहानियाँ लिखता हूँ। मेरी कोई भी कहानी ख़रीदने से पहले आप मेरी वेबसाइट www.aavirbhaav.com पर जाकर उसका निशुल्क प्रिव्यू पढ़ सकते हैं। वेबसाइट पर आप और भी कई कहानियाँ पढ़ सकते हैं जो ScrollStack पर नहीं हैं, वो भी बिना किसी शुल्क के। साथ ही आप मुझसे instagram पर जुड़ सकते हैं, जहां आप बता सकते हैं कि मेरी कहानियाँ आपको कैसी लगीं? (लिंक प्रोफ़ाइल में है) और हाँ, Instagram पर हर गुरुवार की रात को मैं FRIDAY MIDNIGHT HORROR नाम से एक LIVE करता हूँ, जिसमें हम लोग भूत प्रेतों की बातें और क़िस्से साझा करते हैं। उम्मीद है आपसे मुलाक़ात होगी।