अलमारी (हिंदी हॉरर स्टोरी)

कोठी का दरवाज़ा किसी औरत ने खोला था। उस औरत के बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था। उसके बाल किसी बरगद की जटाओं जैसे उसके घुटनों तक लटक रहे थे। वो औरत दरवाज़ा खोल कर धीरे धीरे कोठी से बाहर चलने लगी। वो औरत चलते चलते दादा जी के पेड़ के पास आने लगी। उनके हाथ बंदूक़ पर कसे हुए थे, लेकिन हाथ में आने वाले पसीने से वो उनकी पकड़ से फिसलने लगी थी।


  • Words

    1.2K

  • Time

    7 mins

Sign-in required

अलमारी (हिंदी हॉरर स्टोरी)

स्वप्निल नरेंद्र

नमस्ते, मैं हिंदी में हॉरर कहानियाँ लिखता हूँ। मेरी कोई भी कहानी ख़रीदने से पहले आप मेरी वेबसाइट www.aavirbhaav.com पर जाकर उसका निशुल्क प्रिव्यू पढ़ सकते हैं। वेबसाइट पर आप और भी कई कहानियाँ पढ़ सकते हैं जो ScrollStack पर नहीं हैं, वो भी बिना किसी शुल्क के। साथ ही आप मुझसे instagram पर जुड़ सकते हैं, जहां आप बता सकते हैं कि मेरी कहानियाँ आपको कैसी लगीं? (लिंक प्रोफ़ाइल में है) और हाँ, Instagram पर हर गुरुवार की रात को मैं FRIDAY MIDNIGHT HORROR नाम से एक LIVE करता हूँ, जिसमें हम लोग भूत प्रेतों की बातें और क़िस्से साझा करते हैं। उम्मीद है आपसे मुलाक़ात होगी।